दक्षिणी अफ़्रीका-हिन्द महासागर प्रभाग ज़ाम्बिया पर प्रभाव के लिए तैयारी कर रहा है

Southern Africa-Indian Ocean Division

दक्षिणी अफ़्रीका-हिन्द महासागर प्रभाग ज़ाम्बिया पर प्रभाव के लिए तैयारी कर रहा है

यह मेगा इंजीलवाद परियोजना २०२३ में बोत्सवाना संघ सम्मेलन और दक्षिणी अफ्रीका संघ सम्मेलन के साथ शुरू हुई और यह २०२९ तक चलेगी।

मिशन

दक्षिणी अफ्रीका-हिंद महासागर डिवीजन (एसआईडी) ने "इम्पैक्ट एसआईडी" नामक एक इंजीलवादी कार्यक्रम शुरू किया है। यह मेगा इंजीलवाद परियोजना २०२३ में बोत्सवाना संघ सम्मेलन और दक्षिणी अफ्रीका संघ सम्मेलन के साथ शुरू हुई और यह २०२९ तक चलेगी। "इम्पैक्ट एसआईडी" का रोड मैप इस प्रकार है: बोत्सवाना संघ सम्मेलन और दक्षिणी अफ्रीका संघ सम्मेलन २०२३, दक्षिणी जाम्बिया संघ सम्मेलन और उत्तरी जाम्बिया संघ सम्मेलन २०२४, हिंद महासागर द्वीप समूह (आईओयूसी) २०२५, मोजाम्बिक २०२६, उत्तर पूर्वी अंगोला संघ, दक्षिण पश्चिमी अंगोला संघ, साओ टोम और प्रिंसिपे २०२७, जिम्बाब्वे पूर्वी संघ सम्मेलन, जिम्बाब्वे केंद्रीय संघ सम्मेलन और जिम्बाब्वे पश्चिम संघ सम्मेलन २०२८ और मलावी २०२९ में संघ सम्मेलन।

वर्ष २०२३ में एसआईडी नेताओं और उसकी यूनियनों को बोत्सवाना के फ्रांसिस्टाउन और गैबोरोन में आते देखा गया, जहां ३०० से अधिक लोगों ने बपतिस्मा लिया। बोत्सवाना से, एसआईडी के नेता, यूनियन नेता और पादरी दक्षिण अफ्रीका की राजधानी केप टाउन और नामीबिया और लेसोथो में इसके आसपास के यूनियनों में पहुंचे। कुल मिलाकर, २५० से अधिक नई आत्माओं को बपतिस्मा दिया गया।

इस वर्ष "आई विल गो" की अपनी रणनीतिक योजना के हिस्से के रूप में, फोकस जाम्बिया पर है, जहां दो जाम्बिया संघों, अर्थात् दक्षिणी जाम्बिया संघ सम्मेलन और उत्तरी जाम्बिया संघ सम्मेलन, उनके सारे सम्मेलन और चर्च के साथ, को कवर करने के लिए ९०० से अधिक इंजीलवाद स्थल स्थापित किए गए हैं।

दक्षिणी अफ़्रीका-हिंद महासागर प्रभाग के अध्यक्ष डॉ. हैरिंगटन सिमुई अकोमब्वा इसे इंजीलवाद में एक गेम चेंजर कहते हैं, क्योंकि इस मेगा इंजीलवाद परियोजना के दौरान हजारों नई आत्माओं के बपतिस्मा लेने की उम्मीद है। “एसआईडी के रूप में, हम चर्च के मिशन के प्रति भावुक हैं, और यह प्रभाव कार्यक्रम हजारों लोगों को प्रभावित करने वाला है। हम इसकी तुलना ज़ुंडे से करते हैं, जो ज़िम्बाब्वे से लिया गया शब्द है, जिसका सीधा सा अर्थ है सहयोग करना या एक साथ काम करना। पिछले साल, हम एक टीम के रूप में बोत्सवाना, लेसोथो, नामीबिया और दक्षिण अफ्रीका में थे और इस साल हम जाम्बिया पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। अगले वर्ष हम पूर्व में हिंद महासागर द्वीप समूह, आईओयूसी की ओर जा रहे हैं। जब तक हम २०३० तक पहुंचेंगे और ईश्वर की इच्छा होगी, हम अपने क्षेत्र में एक बड़े सतह क्षेत्र को कवर कर लेंगे, और यह कुल सदस्य भागीदारी (टीएमआई) है और प्रत्येक सदस्य हमारी रणनीतिक योजना के अनुसार काम कर रहा है, 'मैं जाऊंगा!'"

दक्षिणी अफ़्रीका-हिंद महासागर प्रभाग के निजी मंत्रालय और मंत्रिस्तरीय सचिव डॉ. पासमोर मुलाम्बो कहते हैं, “फ़सल वास्तव में बहुत अच्छी है, लेकिन काटने वाले कम हैं। इसलिए, हमारी सभी यूनियनों के साथ जुड़कर, एसआईडी अपने इंजीलवाद मिशन के बारे में बहुत रणनीतिक और जानबूझकर है। ज़ाम्बिया में दोनों संघ अध्यक्ष इस मेगा इंजीलवाद परियोजना के बारे में उत्साहित हैं और ५०० से अधिक इंजीलवादियों और प्रचारकों का स्वागत करने के लिए तैयार हैं। "जीसस सेव्स" थीम के तहत चल रहे इस इंजीलवाद कार्यक्रम को सभी लड़ाइयों की जननी में से एक माना जाता है। दक्षिणी ज़ाम्बिया संघ सम्मेलन के संघ अध्यक्ष डॉ. वैनी मुन्युम्ब्वे का मानना है कि इस विशाल प्रचार कार्यक्रम के बाद ज़ाम्बिया कभी भी पहले जैसा नहीं रहेगा। वह कहते हैं, "जब तक समय हमारे साथ है, विश्वासियों के रूप में हमें अपने पर्यावरण का सर्वोत्तम उपयोग करना चाहिए।"

उत्तरी जाम्बिया संघ सम्मेलन के अध्यक्ष डॉ. टॉमी नामिटोंडो कहते हैं, "जाम्बिया सभी प्रचारकों का स्वागत करने के लिए तैयार है और उनकी उपस्थिति से जाम्बिया में सदस्यता को बढ़ावा मिलेगा, जिसमें अब तक कुल मिलाकर १.२ मिलियन से अधिक बपतिस्मा प्राप्त सदस्य हैं"। अब तक चर्च के सदस्य और आम लोग जाने के लिए उत्सुक हैं क्योंकि १२ से २५ मई, २०२४ तक सभी सड़कें जाम्बिया की ओर जाएंगी। परिणामस्वरूप, दक्षिणी अफ्रीका-हिंद महासागर डिवीजन में जो कुछ हो रहा है, उसके लिए डिवीजन के नेता भगवान की स्तुति करते हैं।

मूल लेख दक्षिणी अफ्रीका-हिंद महासागर प्रभाग की वेबसाइट, एडवेंटिस्ट इको पर प्रकाशित हुआ था।